Categories
Application Google

गूगल ने लॉन्च किए हैं ये ऐप्स, जाने इसकी खासियत

वीडियो देखने के लिए क्लिक करे Click Here

DuckDuckGo is an Internet search engine and they provide searcher privacy and not filter personalized search results. DuckDuckGo provides a result from over 400 sources including Bing, Yahoo! Search BOSS, Wolfram Alpha, its own Web crawler (the DuckDuckBot), and others. DuckDuckGo has privacy first and they use cookies only when required but they do not store IP addresses, does not log user information. By default, DuckDuckGo does not collect or share personal information. DuckDuckGo is a fantastic search engine. All the components are there news, web, videos, images. You can search thousands of other sites directly from DuckDuckGo.

The Benefit of DuckDuckGo Search Engine

DuckDuckGo Protect Privacy

They “do not store IP addresses or unique User agent strings” and will set a cookie only for storing site settings. The founder’s privacy-focused background and the company’s admirable business model are excellent starting points. The company doesn’t store a single byte of your history, and its extension prevents you from being tracked elsewhere.

वीडियो डाऊनलोड करे Click Here

3. Google Gives You ouTube Music Premium and Google Play Music for free too

All Google Play Music subscribers get YouTube Premium, and all YouTube Premium subscribers get Google Play Music — and YouTube Music Premium. The Google Play Music library offers just as many songs as Spotify, plus it includes a cloud locker service. So here Google plans to bridge the gap between YouTube Premium and Google Play Music in the near future.

4. Play videos in the background, even when you open Another App

In normal YouTube, without stopping videos you cannot switch into a different app. Using YouTube Premium you can switch anywhere like a notification popping up on your device that pulls me into my email, my Twitter mentions or my texts. Now that I use YouTube Premium, if I’m OK with just hearing the sound of a video, it will keep playing in the background as I compose a reply.

Download

Categories
Google Google Pay

गूगल ने वियर ओएस के लिए प्ले स्टोर रिडिजाइन किया

विडिओ को पूरा देखें और डाउनलोड करे

1. Flipkart.com

This one has got to return 1st handily. the whole country is totally hooked into Flipkart for nearly all their searching desires. Flipkart sells everything from gift vouchers to natural philosophy to home appliances.

2. Amazon.in

A large variety of individuals from the planet swear by the services of Amazon. Amazon and Flipkart square measure invariably at war with one another and square measure invariably at shut heels. Amazon has an Associate in Nursing equally sizable amount of product at Flipkart. In fact, Amazon apparently sells quite Flipkart.

3. Snapdeal.com

Snapdeal is the best searching web site and is commonly most well-liked by the lots for its low-cost rates. It sells the product at very low costs and thence, maybe a favorite of the lots. it’s a decent plan to shop for from Snapdeal if you’re trying to find completely low-cost costs.

Click Here

4. Jabong.com

Jabong is once more Associate in Nursing Yankee whole however appears to be doing o.k.. it’s an oversized variety {of garments|of garments} and accessories purchasable and may be a complete paradise for those that love buying clothes.

पूरा वीडियो देखने के लिए क्लिक करे

5. Myntra.com

An equally sizeable amount of ladies favor Myntra over Jabong. Myntra additionally incorporates a sizable amount of accessories and garments on its on-line portal. it’s an oversized variety of classes in addition and one can purchase from a class of their selections. From western to ethnic to ancient, all types of garments square measure sold on Myntra.

Download Full Video

Categories
Application Google Map

गूगल मैप में आया ट्रांसलेशन फीचर

Download Full Video

Memory mapping is the interpretation between the legitimate location space and physical memory. The targets of memory mapping are (1) to make an interpretation of from legitimate to a physical location, (2) to help in memory insurance (q.v.), and (3) to empower better administration of memory assets. Mapping is critical to PC execution, both locally (to what extent it takes to execute an instruction) and comprehensively (to what extent it takes to run a lot of projects). Essentially, each time a program introduces a legitimate memory address and demands that the corresponding memory word be gotten to, the mapping system must make an interpretation of that address into a suitable physical memory area. The less difficult this interpretation, the lower the usage cost and the higher the exhibition of the individual memory reference.

There are two crucial circumstances to be dealt with. At the point when the coherent location space is littler than the physical location space (basic to microcontrollers, microchips, and more established mini-and mainframe PCs, mapping is expected to gain access to all of physical memory). At the point when the intelligent location space is bigger than the physical location space, mapping is utilized to insure that each coherent location created relates to an existing physical memory cell.

The size of the sensible location space is determined by the quantity of bits in a memory address. Regularly, the size of a location is restricted by the word length of the PC. On an ordinary 1980s vintage PC with a 16-piece word, just 216 or about 65000 words could be tended to. Innovation presently allows such frameworks to be appended physically to ordinarily this memory, however there is no immediate method to address it without redesigning the instruction set. Hence, the main role of a memory mapping component on such a framework is to empower the sensible location space to be appointed to an ideal part of a bigger physical location space. In paging, the legitimate location space is separated into a lot of equivalent estimated blocks called pages, and each is mapped onto a block of physical memory called a page outline. Each page must begin at a page outline limit in physical memory. The essential favorable position of paging is that it permits a coterminous consistent location space to be part into a few non-contiguous physical casings. This grants the sharing of a portion of a program\’s pages among various procedures without the complete cover of physical locations. The page map document is frequently kept in a store memory.

विडिओ को पूरा देखें और डाउनलोड करे

Apple is to disclose some information round the iPhone 11, iPhone 11 Guru, and iPhone 11 Guru Max. On the other hand, the least expensive version from the 2019 iPhone household is rumoured to take a beginning cost of $749 (approximately Rs. 53,700). Whereas the OLED versions are very likely to be accessible with high price tags this might be associated to this XR $58,490 successor. Using their accessibility is supposed for September 20, the pre-orders for its 11 versions that are iPhone would begin from September 13.

Click Here.

Categories
Google Google News

Children’s Day: गूगल ने बाल दिवस पर बनाया डूडल

सर्च इंजन गूगल ने गुरुवार को एक रंगीन डूडल के साथ 2019 बाल दिवस को चिह्नित किया। भारत 14 नवंबर को बाल दिवस के रूप में मनाता है, जो देश के पूर्व प्रधान मंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू को चिह्नित करता है।

बाल दिवस पर गूगल 2009 से एक ‘Doodle 4 Google’ नाम से एक प्रतियोगिता का आयोजन करता है और बेस्ट डूडल इसके होम पेज पर दिखता है।  इस वर्ष डूडल प्रतियोगिता की थीम ‘When I grow up, I hope…’ (जब मैं बड़ा हूं तो मैं आशा करूं….।) रखी गई थी। इस बाल दिवस की प्रतियोगिता में गूगल को 1.1 लाख एंट्रीज़ मिली, ये सभी चित्र 1 से 5 तक की कक्षा वाले बच्चों ने बनाए थे, जिसमें दिव्यांशी सिंघल की इस पेंटिंग को चुना गया।

आपको बता दें, ये गूगल डूडल गुरुग्राम की दूसरी क्लास में पढ़ने वाली सात साल की लड़की दिव्यांशी सिंघल ने बनाया है। दिव्यांशी ने इस तस्वीर में पेड़-पौधों को चलते हुए दिखाया है और नाम दिया है ‘वॉकिंग ट्री’।

यूनाइटेड नेशंस की ओर से तय किए गए यूनिवर्सल चिल्ड्रेन्स डे के हिसाब से पहले बाल दिवस 20 नवंबर को मनाया जाता था।

Video Download Kare

लेकिन, 1964 में पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की मृत्यु के बाद उनको सम्मानित करने के लिए सर्वसम्मति से संसद में एक प्रस्ताव पारित किया गया। बच्चों से उनके लगाव के चलते उनका जन्मदिन राष्ट्रीय बाल दिवस के रूप में मनाया जाएगा। इसलिए, प्रत्येक वर्ष तब से 14 नवंबर को भारत में बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है ताकि देश के पहले पीएम की जयंती मनाई जा सके। जवाहर लाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर1889 को इलाहाबाद में हुआ था।

नेहरू को चाचा कहा जाने की लोकप्रिय कहानियाँ हैं। ऐसा माना जाता है कि वह बच्चों के शौकीन थे और बच्चों से अपार स्नेह से मिलते थे। बच्चों के प्रति उनके दोस्ताना रवैये के कारण बच्चे उन्हें चाचा कहकर पुकारते थे। बच्चों से उनका प्यार कई मौकों पर दिखता रहा है और अक्सर काम के बीच भी वे बच्चों को कहानियां सुनाने बैठ जाते थे।

Click Here More Details

Categories
Google

आपके निजी डाटा पर है गूगल की नजर, हर एक्टीविटी को ट्रैक करती है कम्पनी

वीडियो देखने के लिए क्लिक करे: Click Here

When Google Drive was first introduced, it was used as a place to store files in the cloud and was accessible from anywhere. With the development of Drive, the Google Docs role has also been included and is now used as a hub for creating all Google Docs and Office tools. You can also install apps on Drive to further enhance their functionality. With this guide you can learn how to best use Google Drive.

What is Google Drive?

Google Drive is one of the most popular cloud storage services today. Google Drive is a free cloud-based storage service that allows users to store and access files online. Save files securely to Google Drive and use Google Drive to open and repair files from any device. Synchronize store documents, photos, and more across all your users ’devices, including mobile devices, tablets, and PCs. Google provides 15GB of free cloud storage to sign up.

Google Drive can store all types of files, including photos, videos, pdf files, and Microsoft Office files. The biggest advantage of Google Drive is that you can preview files in your browser without downloading. You can also save email attachments sent directly to Google Drive via Gmail. This eliminates the need to move manually.

Google Drive also provides other services such as Google Docs, Gmail, Android, Chrome, YouTube, Google Analytics, Google+. Google Drive competes with Microsoft OneDrive, Apple iCloud, Box, Dropbox and SugarSync.

Download Full HD Video : Click Here

The Benefits of Google Drive

The biggest feature of Google Drive is that you can access your data from any device (if you have a Google Drive account login). Google Drive is considered the best service for backup.

Easy Access

With Google Drive, you can access your data from anywhere and not only access your data, but also share files and folders with others.

वीडियो देखने के लिए क्लिक करे: Click Here

Categories
Google Map

एंड्रॉयड यूजर्स के लिए गूगल मैप में आया यह नया फीचर, जाने

क्रोम के इन्कॉग्निटो मोड के तरह अब गूगल ने गूगल मैप के लिए भी इन्कॉग्निटो मोड फीचर भूमिका आउट कर दिया है. इस मोड को इनेबल करने से नेविगेशन व सर्च हिस्ट्री, एकाउंट में सेव नहीं होंगी साथ ही हिस्ट्री रिकमेंडेशन सेक्शन में नहीं दिखेगी. यह नया फीचर उस समय बेहद कार्य का साबित होगा,

Download Full Video

जब उपभोक्ता आपनी लोकेशन को सीक्रेट रखना चाहते हो या किसी को बताए बिना किसी स्थान का एड्रेस पता लगाना हो. वैसे यह फीचर सिर्फ एंड्रॉयड यूजर्स के लिए ही जारी किया गया है. जल्द ही इसे आईओएस यूजर्स के लिए भी रोलआउट किया जा सकता है.

  1. गूगल ने इस फीचर को रोलआउट करना प्रारम्भ कर दिया है. लेकिन यूजर्स तक इसे पहुंचने में थोड़ा समय भी लग सकता है.
  2. नए अपडेट के बाद गूगप मैप ओपन कर प्रोफाइल फोटो पर टैप करके ‘इन्कॉग्निटो मोड’ को ऑन किया जा सकेगा. इसी तरह इसे ऑफ भी किया जा सकता है.

  1. मोड को ऑन करने पर मैप पर किए जाने वाले सर्च व नेविगेशन हिस्ट्री का कोई रिकॉर्ड नहीं रखा जाएगा. हालांकि पहले से सेव लोकेशन हिस्ट्री पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा.
  2. गौर करनी वाली बात यह है कि यह मोड प्रयोग करने के बाद भी इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर व अन्य गूगल सर्विसस तक उपभोक्ता की जानकारी पहुंचेगी. यह सिर्फ उपभोक्ता से जानकारी छुपाता है. इसको प्रयोग करने के बाद ऐप के कई रेगुलर फीचर भी कार्य नहीं करते.
  3. गूगल के मुताबिक नए मोड में लोकेशन हिस्ट्री, लोकेशन शेयरिंग, नोटिफिकेशन व मैसेज, सर्च हिस्ट्री, ऑफलाइन मैप, यूअर प्लेस, मीडिया इंटीग्रेशन, गूगल असिस्टेंट माइक्रोफोन इन नेविगेशन जैसी सुविधाएं बंद हो जाती है.

90 के दशक में लोगों की नजरों में आया मारियो गेम 2007 तक लोगों के सिर चढ़ कर बोलने लगा। मारियो, वीडियो गेम से कहीं ज्यादा बन गया और बच्चों से लेकर बड़ों तक में इसे पसंद किया जाने लगा। मारियो गेम की सिर्फ एक आवाज से लोग आज भी इसे तुरंत पहचान लेते हैं। मारियो गेम को लोगों ने टीवी और कंप्यूटर दोनों पर खूब पसंद किया। आज भी इस गेम को लेकर दीवानगी लोगों के बीच देखी जा सकती है। इसी को ध्यान में रखते हुए गूगल ने मारियो फैन्स को एक बड़ा ही खास तोहफा दिया है।

विडिओ को पूरा देखें और डाउनलोड करे

दरअसल, गूगल ने 10 मार्च को ‘मारियो डे’ के मौके पर फैन्स को एक खास तोहफा दिया, जहां गूगल के मैप पर अब मारियो आपको रास्ता बताएगा। इसके लिए गूगल ने मारियो गेम बनाने वाली कंपनी निन्टेंडो से करार किया है। दोनों कंपनियों के बीच हुई साझेदारी के चलते अब गूगल मैप पर मारियो आपको रास्ता दिखाएगा। इस नए फीचर का मजा एंड्रॉयड और आईओएस दोनों के ही यूजर्स उठा सकते हैं।

Click Here

Categories
Google

जानिए गूगल आप की किन-किन चीजों पर रखता है नजर

Download Full Video

If you sell pets online, you are in the business of pleasing others.

However, there are some serious precautions you must take to ensure the integrity of your business as well as the safety of your animals.

Follow the advice in this post to learn how to increase your web presence, as well as how to safely sell your animals to loving, capable owners on the Internet.

Build your web presence

Before you understand how to safely sell pets online, let’s first discuss how you can build a web presence that will allow customers to identify you as a breeder.

One of the most important things you can do is register immediately with the Better Business Bureau. That way, when customers find your website, they can see that you have a clean record and learn more about your previous customers.

Also, registering with the BBB proves to the client that you are authorized, invested in the health and well-being of your animals, and committed to customer service.

Click Here

Plus, it doesn’t hurt to include testimonials from your previous customers with flashing testimonials. For a great example of a dog site doing a good job, check out Crump’s Bully Their homepage provides links to their social media accounts, clearly displays their contact information, and uses the image to connect to their target market immediately.

Download Full Video

Categories
Google News

गूगल का पेपर फोन करेगा डिजिटल डिटॉक्स का काम

आज हर किसी के पास स्मार्टफोन है और हर दूसरा व्यक्ति अपने फोन में ही लगा रहता है। हम सभी की जीवनशैली में फोन एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है जिसकी जाने अनजाने में बहुत सारे लोगों को लत लग चुकी है। फोन मेें लोग इतने व्यस्त हो गए है कि वे अपने परिवार और दोस्तों से दूर हाेते जा रहे हैं। मोबाइल का हमारी जिदंगी में दखल बढ़ता ही जा रहा है। इस परेशानी से निपटने के लिए गूगल ने पेपर फोन लॉन्च किया है जो स्मार्टफोन की लत को छुड़ाएगा। गूगल का यह अनोखा पहल डिजिटल डिटॉक्स की तरह काम करेगा। गूगल ने अपने नए आविष्कार के बारे में जानकारी साझा करते हुए कहा कि हम आशा करते है कि हमारी इस प्रयास से स्मार्टफोन की लत को कम किया जा सकेगा। इससे लोग अन्य जरुरी कामों पर अपना ध्यान लगा सकेंगे।

क्या है यह पेपर फोन?

पेपर फोन के बारे में गूगल ने बताया कि यह फोन एक एक्सपेरिमेंटल ओपन सोर्स ऐप है जिसे कभी भी इस्तेमाल किया जा सकता है। मालूम हो कि इस ऐप के लिए गिटहब कोड उपलब्‍ध है जो माइक्रोसॉफ्ट की सहायक कंपनी है। इस ऐप की मदद से यूजर्स अपनी सारी जरुरत की चीजें जैसे कि कॉन्टैक्ट्स,मैप्स,मीटिंग,टास्क लिस्ट या मौसम चुन सकते हैं। ऐप इन सारी चीजों को पेपर की शीट पर व्यवस्थित करता है जिसका प्रिंट लिया जा सकता हैं। इस पेपर फोन का मुख्य उद्देश्य लोगों को स्मार्टफोन से दूर रखकर उनकी लत कम करवाना है। इसके अलावा इस ऐप का दूसरा मकसद अधिक से अधिक पेपर के इस्तेमाल को बढ़ावा देना है। इस फाेन के इस्तेमाल से लोग अपने दूसरे महत्वपूर्ण कामों पर ध्यान केंद्रित कर सकेंगे।

पर्यावरण पर नहीं पड़ेगा प्रभाव

गूगल के पेपर फोन की खूबी है कि इसका पर्यावरण पर बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा। मालूम हो कि एक दिन में एक पेपर प्रिंट करने से एक साल में 10 ग्राम कार्बन डाइऑक्साइड निकलती है। वहीं,दूसरी ओर जब हम अपना फोन एक दिन में केवल एक एक घंटा भी इस्तेमाल करें तो एक साल में कार्बन डाई आक्साईड पैदा होती है।

गौरतलब है कि स्मार्टफोन की लत को कम करने के लिए गूगल ने पहले भी कोशिश की है। इसके पहले भी ऐंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम डिजिटल वेल-बींग फीचर के साथ आया था जिसका मकसद भी डिजिटल डिटॉक्स ही था।

कैसे काम करता है
ये ऐप आपको कॉन्टैक्ट्स, मैप्स, मीटिंग्स, टास्क लिस्ट या वैदर जैसी इन्फॉर्मेशन चूज करने का मौका देता है और फिर इसे एक पेपर की शीट पर ऑर्गनाइज करता है, जिसका आप प्रिंट ले सकते हैं. स्पेशल प्रोजेक्ट्स स्टूडियो ने इसे लेकर कहा है कि हमें उम्मीद है कि इस छोटे से एक्सपेरिमेंट के जरिए आपको टेक्नॉलजी से डिटॉक्स होने में मदद मिलेगी और आप उन चीजों पर ध्यान दे सकेंगे, जो कि आपके लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण हैं. अगर आपको अपने फोन से ब्रेक चाहिए, तो बेहतर उसका प्रिंट लेना शुरू करें.

फोन से बहुत कम कार्बन डाइऑक्साइड पैदा करता है पेपर
स्पेशल प्रोजेक्टस स्टूडियो ने आगे कहा कि अगर आपको इस बात की चिंता है कि पेपर प्रिंटिंग का पर्यावरण पर असर पड़ेगा, तो आपको बताना चाहते हैं कि एक दिन में एक पेपर प्रिंट करने पर एक साल में 10 ग्राम कार्बन डाइऑक्साइड प्रोड्यूस होती है. जब कि अपना फोन एक दिन में सिर्फ एक घंटे इस्तेमाल करने पर एक साल में 1.25 टन कार्बन डाइऑक्साइड पैदा होती है.
Read More: Click Here

Categories
Google News

गूगल के डिजिटल वेलबीइंग एप्स स्मार्टफोन की लत से दिलायेंगे छुटकारा

दिग्गज टेक कंपनी गूगल ने मोबाइल यूज कम करने के मकसद से डिजिटल वेलबीइंग के तहत छह एक्सपेरिमेंट एप्स-अनलॉक क्लॉक, वी फ्लिप, पोस्ट बॉक्स, मॉर्फ, डेजर्ट आईलैंड और पेपर फोन लॉन्च किये हैं. ये सभी एप्स गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध हैं. गूगल ने पिछले साल आई/ओ डेवेलपर कॉन्फ्रेंस के दौरान अपना डिजिटल वेलबीइंग प्रोग्राम लॉन्च किया था.

तब से इस प्रोग्राम ने अपना विस्तार कर इसमें विंड डाउन जैसे नये फीचर, अनेक एप्स और सेवाओं को शामिल किया है और अपनी पहुंच बढ़ायी है. अब कंपनी ने अपने इसी वेलबीइंग प्रोग्राम के तहत कुछ एक्सपेरिमेंट एप्स लॉन्च किये हैं.

ये प्रोग्राम यूजर्स को अपने स्मार्टफोन को बेहतर तरीके से समझने और स्क्रीन टाइम को कम करने में मदद करेंगे. स्मार्टफोन में गूगल डिजिटल वेलबीइंग फीचर न होने पर भी यूजर्स इन प्रोग्राम्स का इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन इसके लिए उनका एंड्रॉयड स्मार्टफोन 8.0 ओरियाे या इसके ऊपर के वर्जन का होना चाहिए.

अनलॉक क्लॉक

यह एक्सपेरिमेंट एक लाइव वॉलपेपर है जो इस बात की गिनती करता है कि आपने एक दिन में कितनी बार अपना स्मार्टफोन अनलॉक किया है. शून्य से शुरू होकर यह गिनती वहां तक जाती है, जितनी बार एक दिन में आपने अपने फोन को एक्सेस किया है. गूगल की मानें तो यह एक्सपेरिमेंट एक एप की तरह दिखाई नहीं देगा. प्ले स्टोर से इसे डाउनलोड करने के बाद यूजर्स इसे अपने स्मार्टफोन के लाइव वाॅलपेपर लाइब्रेरी सेक्शन से एक्सेस कर सकेंगे.

वी फ्लिप

इस एप का उद्देश्य एक समूह में बैठे होने पर यूजर्स को उनके फोन के साथ डिस्कनेक्ट करने में मदद करना है. हालांकि इसके लिए दूसरे स्मार्टफोन में भी इस एप का होना जरूरी है. जब वी फ्लिप एप वाले सभी फोन आसपास होते हैं तो वे एक दूसरे से जुड़े होते हैं. सत्र की शुरुआत करने के लिए यूजर्स स्विच को फ्लिप कर सकते हैं. जब कोई व्यक्ति अपने फोन को अनलॉक करेगा तो सत्र समाप्त हो जायेगा. यूजर्स हर वक्त फोन का इस्तेमाल न करें, बल्कि कुछ समय इससे दूर भी रहें, इसके लिए इस एप को लाया गया है.

डेजर्ट आईलैंड

इस एप का उद्देश्य एक दिन में आपकी प्राथमिकता के आधार पर एप्स की सूची तैयार करना है, ताकि आप उन पर ध्यान केंद्रित कर सकें. डेजर्ट आईलैंड के तहत यूजर्स सात आवश्यक एप चुन सकते हैं. इसे आप 24 घंटे के लिए सेट कर सकते हैं.

24 घंटे के बाद यूजर्स यह देख सकेंगे कि उन्होंने दूसरे एप्स को एक्सेस किये बिना चुने हुए एप्स को ही एक्सेस किया या नहीं. इन एप्स को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर में जाकर गूगल क्रिएटिव लैब सर्च करना होगा. यहां इस सूची में आपको ये सभी एप्स मिल जायेंगे.

पेपर फोन

इस सूची का अंतिम एप पेपर फोन है. इस एप का उद्देश्य आवश्यक सूचनाओं का प्रिंटआउट लेने में मदद करके यूजर्स के फोन उपयोग में कटौती करना है.

इसके लिए यूजर्स उस दिन के लिए अपने पसंदीदा कॉन्टैक्ट्स, मैप्स और मीटिंग्स जैसी आवश्यक सूचनाओं का चुनाव कर सकते हैं और फिर उन्हें सीधे कागज की शीट पर प्रिंट कर सकते हैं. इससे उन्हें बार-बार फोन के इस्तेमाल की जरूरत नहीं पड़ेगी.

पोस्ट बॉक्स

पोस्ट बॉक्स एप के तहत यूजर्स को अनचाहे अलर्ट्स से दूर रखा जायेगा, ताकि बार-बार उनकी एकाग्रता भंग न हो. इसके लिए यूजर्स को इसमें यह निर्धारित करना होगा कि किस अंतराल पर उनके फोन में नोटिफिकेशंस डिलिवर हों. ऐसा होने के बाद जितनी समयावधि यूजर्स ने निर्धारित की होगी, उसी अंतराल पर वे करीने से व्यवस्थित सभी नोटिफिकेशंस एक साथ देख सकेंगे.

गूगल ने हासिल की क्वांटम सुपरमेसी

गूगल ने कहा है कि उसने क्वांटम कंप्यूटिंग जिसे क्वांटम सुपरमेसी कहा जाता है, हासिल कर ली है. कंपनी का कहना है कि इसकी मदद से कंप्यूटिंग पूरी तरह बदल जायेगी. पिछले महीने गूगल के कंप्यूटर साइंटिस्टों का पेपर नासा के वेबसाइट पर देखा गया था, जिसमें दावा किया गया था कि उनके क्वांटम कंप्यूटर ने क्वांटम सुपरमेसी का प्रदर्शन किया है. हालांकि बाद में यह पेपर वेबसाइट से गायब हो गया. अब गूगल ने आधिकारिक तौर पर इस बात का दावा किया है. गूगल की यह उपलब्धि साइंटिफिक जर्नल नेचर में प्रकाशित हुई है.

क्या है क्वांटम सुपरमेसी

क्वांटम सुपरमेसी एक ऐसी तकनीक है, जिसकी मदद से बड़े डेटा और इन्फॉर्मेशन को बहुत कम वक्त में प्रोसेस किया जा सकेगा, जिसे साधारण कंप्यूटर के जरिये करना मुश्किल है. दूसरे शब्दों में कहा जाये तो क्वांटम कंप्यूटर बेहद जटिल कंप्यूटेशन को महज 200 सेकेंड यानी लगभग तीन मिनट में पूरा कर सकता है, जिसे करने में मौजूद कंप्यूटर को 10,000 साल लगेंगे.

गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई के अनुसार, ‘क्वांटम कंप्यूटिंग की मदद से जलवायु परिवर्तन से लेकर तमाम तरह की बीमारियाें जैसी वैश्विक समस्याओं से निपटने में हम सक्षम हो पायेंगे. इस उपलब्धि के साथ हम क्वांटम कंप्यूटिंग को लागू करने के एक कदम और करीब पहुंच चुके हैं. उदाहरण के लिए, अधिक कुशल बैटरी डिजाइन करना, कम ऊर्जा का उपयोग करके उर्वरक बनाना, प्रभावी दवाइयां तैयार करना आदि काम कर सकते हैं.’

क्यूबिट में रजिस्टर होती हैं सूचनाएं

साधारण कंप्यूटर जहां किसी भी सूचना और डेटा को बिट्स, जिनकी वैल्यू 0 या 1 हो सकती है, में रजिस्टर करते हैं. वहीं क्वांटम कंप्यूटर में सूचनाएं व डेटा क्यूबिट्स में रजिस्टर होते हैं, जिनकी वैल्यू एक ही समय 1 व 0 दोनों हो सकती है. गूगल के अलावा माइक्रोसॉफ्ट, आईबीएम और इंटेल जैसी बड़ी टेक कंपनियां भी इस टेक्नोलॉजी पर काम कर रही हैं.
Read More: Click Here

Categories
Google Pay

अब थंब और फेस से खुलेगा Google Pay

 जैसे- जैसे टेक्नोलॉजी का डवलपमेंट हो रहा है। लोग के लिए चीजें आसान हो रही है। वहीं आईटी सेक्टर भी लगातार यह कोशिश कर रहा है कि लोग ज्यादा से ज्यादा आसान सुविधाओं की ओर बढ़े। ऐसा ही कुछ अब गूगल की ओर से किया गया है। दरअसल गूगल पे यूजर्स अब उंग्ली के निशान या फिर चेहरा दिखाकर भी ट्रांजेक्शन कर सकेंगे। कंपनी ने बॉयोमेट्रिक सिक्योरिटी अपनी एप 2.10.0 वर्जन को पर इस फीचर को जोड़ दिया है। इससे पहले यूजर्स सिर्फ पिन एंट्री के जरिए ही ट्रांजेक्शन कर सकते थे।

एक टेक वेवसाइट से मिली जानतकारी के अनुसार इस नए फीचर के साथ यूजर्स अब जल्दी आसानी और पहले से ज्यादा बेहतर तरीके से सुरक्षा के साथ ट्रांजेक्शन कर सकेंगे। कंपनी का दावा है कि इससे पैसों का ट्रांजेक्शन पहले से ज्यादा सिक्योर होगा।हालांकि पिन एंट्री भी सुरक्षा के लिहाज से बेहतर थी लेकिन इसमें कोई भी सेंध लगा सकता है क्योंकि यह अनुमानित और क्रैक की जा सकती है।

पिन एंट्री यूजर फ्रेंडली भी होती है। कंपनी ने हाल में बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन को एंड्रायड 10 पर जोड़ था जिसे अब ऑनलाइन पेमेंट सिस्टम गूगल पे के लिए रोलआउट किया गया है। मिली जानकारी के अनुसार बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन सिर्फ पैसे ट्रांसफर करने के लिए दिया गया है। गूगल पिक्सल 4 स्मार्टफोन इस्तेमाल करने वाले ग्राहक इसक फीचर का इस्तेमाल कर सकते हैं।

हालांकि गूगल एंड्रायड 9 पर भी इस फीचर को जोडऩे की प्लानिंग कर रही है। वहीं अभी तक यह भी साफ नहीं है कि पुराने वर्जन का इस्तेमाल कर रहे यूजर्स भी इस फीचर का लुत्फ उठा सकेंगे या नहीं। बता दें कि फिलहाल यह फीचर भारत में उपलब्ध नहीं है। गूगल प्ले इंडिया यूजर्स अभी भी यूपीआई पिन ऑथेंटिकेशन के जरिए ही ट्रांजेक्शन करेंगे। लेकिन यह भी जानकारी मिली है कि जल्द ही इंडियन यूजर्स के लिए भी यह सुविधा जारी की जाएगी, ताकि वो भी आसानी से अपने ट्रांजिक्शन को पूरा कर सकें।

How to Work Google Pay

 

  • इससे पहले गूगल पे यूजर ट्रांजेक्शन करने के लिए पिन का इस्तेमाल करते थे ताकि उनका ट्रांजेक्शन सुरक्षित रहे। लेकिन लेटेस्ट अपडेट में पिन डालने की जरूरत नहीं पड़ेगी। गूगल ने ऐप में बायोमेट्रिक एपीआई का फीचर जोड़ा है जो पहले से तेज और सुरक्षित है। इसे पारंपरिक पिन सिक्योरिटी फीचर के रिप्लेसमेंट के तौर भी देखा जा रहा है।
  • फिलहाल यह फीचर भारत में उपलब्ध नहीं है। भारतीय यूजर्स को अभी भी यूपीआई पिन की मदद से ही पेमेंट करना होगा। यह फीचर सिर्फ एंड्रॉयड 10 डिवाइस में ही उपलब्ध है। एंड्रॉयड पुलिस कि रिपोर्ट के मुताबिक जल्द ही नए अपडेट को एंड्रॉयड 9 यूजर्स के लिए भी जारी किया जाएगा।
  • यूजर्स को यह ऑप्शन सेडिंग मनी सेक्शन के नीचे दिखाई देगा। यूजर पिन से बायोमेट्रिक सिक्योरिटी में स्विच कर सकेंगे। पेमेंट को और सुरक्षित बनाने के लिए यूजर्स दोनों ऑप्शन भी इस्तेमाल कर सकेंगे। इस फीचर का इस्तेमाल सिर्फ मनी ट्रांसफर के लिए ही किया जा सकता है। इसे स्टोर्स पर एनएफसी पेमेंट्स के लिए इस्तेमाल नहीं कर सकते।

 
Read More: Click Here